रक्तदान कर बनें महादानी: कारगिल विजय दिवस के मौके पर 26 जुलाई को करें रक्तदान, ताकि बचा सकें किसी की जान

0
15

कारगिल विजय दिवस के मौके पर 26 जुलाई को अमर उजाला फाउंडेशन और जिला अस्पताल ब्लड बैंक की ओर से रक्तदान शिविर का आयोजन किया जाएगा। सुबह 10 से दोपहर दो बजे तक जिला अस्पताल के ब्लड बैंक में 18 से 65 साल के बीच का कोई भी स्वस्थ व्यक्ति रक्तदान कर सकता है। रक्तदाता को अमर उजाला फाउंडेशन की ओर से प्रशस्ति पत्र दिया जाएगा और उनकी फोटो प्रकाशित की जाएगी। जिला अस्पताल के ब्लड बैंक प्रभारी डॉ. एसके यादव ने बताया कि रक्तदान करने वालों के ब्लड ग्रुप के साथ ही खून की अन्य जांच भी मुफ्त की जाएगी। बताया कि कोविड महामारी के बीच रक्त देकर चार लोगों को स्वस्थ करने में योगदान दे सकते हैं। ऐसे में सभी को रक्तदान जरूर करना चाहिए।

ये भी जानें

एक यूनिट में 350 मिलीग्राम खून निकाला जाता है। रक्तदान के बाद खून की कमी 24 घंटे में पूरी हो जाती है। एक यूनिट खून से एक यूनिट प्लाज्मा, एक यूनिट प्लेटलेट्स, एक यूनिट आरबीसी और एक यूनिट क्रायो मिलता है। इन चारों से अलग-अलग चार मरीजों को स्वस्थ करने में मदद मिलती है। तीन महीने के अंतराल पर ही दोबारा करना चाहिए। रक्तदाता की उम्र 18 से 65 साल के बीच होनी चाहिए और शरीर का न्यूनतम वजन 45 किलोग्राम होना चाहिए।

इन बातों का रखें ध्यान

खाली पेट रक्तदान न करें। पर्याप्त पेय पदार्थ या अल्पाहार जरूर लें। रक्तदान के आधे घंटे पहले तंबाकू या सिगरेट का सेवन न करें।

नियमित रक्तदान के फायदे

शरीर में खून बनने की प्रक्रिया तेज होती है। पूर्व की जांच से शरीर की स्थिति का पता चलता है। हार्टअटैक, ब्लड प्रेशर और कैंसर होने की आशंका कम होती है। रक्तदान के बाद होने वाले खून की जांच में एचआईवी, एचवीएसएजी, एचसीबी, वीडीआरएल और मलेरिया का भी पता चलता है। इसकी रिपोर्ट निगेटिव होने पर ही रक्त सुरक्षित रखा जाता है। पॉजिटिव मिलने पर रक्तदान करने वालों को बीमारी के बारे में बताया जाता है।

किसे नहीं करना है रक्तदान

गर्भवती महिलाएं, एचआईवी पॉजिटिव व्यक्तियों, एनीमिया, कैंसर और टीबी से ग्रस्त लोगों को रक्तदान नहीं करना है। किडनी रोग और हेपेटाइटिस बी पॉजिटिव, लीवर के मरीजों को डायबिटीज, अस्थमा और पीलिया से पीड़ित को एक महीने में या किसी भी प्रकार का टीकाकरण कराया हो व लगातार कई दिनों से एंटीबायोटिक और एस्प्रीन दवा का प्रयोग कर रहे हों तो ऐसे किसी भी व्यक्ति रक्तदान नहीं करना चाहिए।

Source- www.amarujala.com

Previous articleमिशन 2022: गोरखपुर में साधु-संतों की शरण में भाजपाई, विधानसभा चुनाव में जीत का मांगा आशीर्वाद
Next articleसंतकबीरनगर: किराना दुकानदार ने किसान नेता को उतारा मौत के घाट, गले व सिर पर धारदार हथियार से किए कई वार